Friday, July 20, 2012

अब के सावन मेघा रे ...

अब के सावन मेघा रे ,
जो तूँ ना आयी उनके साथ
तो मेरी प्यास तेरे आने से भी ,
बुझ ना पायेगी |

और किसी झरोखे से ....
उन्हें खोजती मेरी नज़र ...
आँसुओं में भीगकर,
मायुसी में कहीं खो जाये
गी  |

कुछ तो कर जा ऐसा,
की हमें फिरे से जीने की कोई वजह मिल जाये ,
दूर रहे सदा वो हमसे ....
पर फिर भी एक हसीन मुलाकात में ..

...खोया सब कुछ हमे फिर दे जा |

जरा सोच , जब दो मन एक ही आंगन में मिल जायेगे ...
तो दो दिल के बीच की सारी दीवारे भी मिट जायेगे ...
तब तन - बदन में आग लगेगी और हम भींगकर भी सावन में जल जायेगे |

11 comments:

  1. sundar kavita barish me bhigti yaade.
    wah nice abhivyakti hai.....♥

    ReplyDelete
  2. अब सावन आया है...तो मिलवा कर ही रहेगा...
    खूब भीगिये मिल कर...

    अनु

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा आज रविवार के  चर्चा मंच  पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर !
    सावन और मेघ को
    हम भी डाँठ लगायेंगे
    देखते हैं कैसे नहीं
    इस बार वो उनको
    भी लेकर आयेंगे!!

    ReplyDelete
  5. आखिर वो इन्तजार ख़त्म हो ही जाएगा सावन आँगन में खुशियाँ बरसायेगा बहुत अच्छी भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर
    अब तो सावन जरुर उनको साथ ले आएगा
    भावो को खूबसूरती से व्यक्त करती रचना:-)

    ReplyDelete
  7. सावन की रचना ..

    सुंदर !!

    ReplyDelete
  8. वाह ... आपकी आना तो उन्हें साथ लाना ... सावन से गिला ...

    ReplyDelete
  9. तो दो दिल के बीच की सारी दीवारे भी मिट जायेगे ...
    तब तन - बदन में आग लगेगी और हम भींगकर भी सावन में जल जायेगे |

    wah... bahut khub:)

    ReplyDelete


  10. ♥(¯`'•.¸(¯`•*♥♥*•¯)¸.•'´¯)♥
    ♥नव वर्ष मंगलमय हो !♥
    ♥(_¸.•'´(_•*♥♥*•_)`'• .¸_)♥




    जब दो मन एक ही आंगन में मिल जाएंगे ...
    तो दो दिलों के बीच की सारी दीवारें भी मिट जाएंगी ...
    तब तन - बदन में आग लगेगी
    ...और हम भींगकर भी सावन में जल जाएंगे

    वाऽह ! क्या बात है !
    POINT जी :)
    इस बार सावन के महीने का इंतज़ार रहेगा आपकी कविता की स्मृति के साथ ...


    नव वर्ष की शुभकामनाओं सहित…
    राजेन्द्र स्वर्णकार
    ◄▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼►

    ReplyDelete