Sunday, December 18, 2011

मेरी बेकरारी .....


हर हवा के झोको को.... 
तेरी यादो से जोड़ने में ,
हमें बड़ा मजा आता है  |
कभी -कभी ये लगता है ....
की तुम मुझे हवाओ के जरिये 
मुझे छुकर जाते हो |

हाँ ये सच है , 
की मैं तुम्हे रात-दिन ,
बस तुम्हे चाहती हूँ |
बस  बताती नहीं हूँ ,,,
ये मेरी खता है |

मेरी बेकरारी के मजे ,
तुम खूब उठाते हो |
सच तो ये है , की यूँ 
बेक़रार रहने मैं हमे भी 
मजा आता है |

19 comments:

  1. वाह
    क्‍या बात है.....

    ReplyDelete
  2. क्या बात है बहुत खूब!


    -----
    जो मेरा मन कहे पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर , खुमार में डूबी रचना .

    ReplyDelete
  4. कल 20/12/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की जायेगी! आपके ब्लॉग पर अधिक से अधिक पाठक पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  6. प्यार को समर्पित कविता ...सुंदर

    ReplyDelete
  7. Wah! kya baat hai....
    ye Bekarari adbhut hai....

    www.poeticprakash.com

    ReplyDelete
  8. हाँ ये सच है ,
    की मैं तुम्हे रात-दिन ,
    बस तुम्हे चाहती हूँ |
    बस बताती नहीं हूँ ,,,
    ये मेरी खता है |

    मन के सीधे सच्चे भाव....

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर, बेहद खूबसूरत !
    शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  10. मेरे मचान पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  11. आपका बहुत आभार

    ReplyDelete
  12. वाह ... बहुत खूब ...इस बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये बधाई ।

    ReplyDelete
  13. खूबसूरत एहसास .....

    ReplyDelete