Wednesday, December 28, 2011

कैसी ये जुदाई है .....

जो दिल डूबे 
उदासी में |
आँसू छुटे, 
आँखों से |
पर प्यार 
छुट ना पाये |

जो गहरी सांसे 
मैं ले लू .....
उनकी यादों में |
उनका हाथ ,
ना हो ....
हाथो में |

पर उनका साथ 
ना होते हुए भी 
कुछ देर तो ,
उन्हें पालू |

यूँ तड़पते हुए 
तो कोई मजा 
नहीं आता |

पर इस सजा का 
शबब कुछ समझ 
भी नहीं आता |

29 comments:

  1. बहुत सुन्दर भावपूर्ण !

    ReplyDelete
  2. क्या बात है बहुत प्यारी रचना !
    आभार !!


    मेरी नई रचना
    एक ख़्वाब जो पलकों पर ठहर जाता है

    ReplyDelete
  3. यूँ तड़पते हुए
    तो कोई मजा
    नहीं आता |

    पर इस सजा का
    शबब कुछ समझ
    भी नहीं आता |

    ak gahari abhivykti ....badhai Point ji .. bhavnaon jwar apke shabdo ke chayan me poori tarah dikhta hai .

    ReplyDelete
  4. दिल है उदास,आँखों में अश्क,फिर भी न छूटे प्यार अगर।
    क्या खूब लिखा है,वाह वाह.....................
    हो याद यार, गहरी साँसें, हाथों में न हो हाथ मगर।
    क्या खूब लिखा है,वाह वाह.....................
    मजा न है इस तड़फन में, उसको पालूँ, हो साथ न पर।
    क्या खूब लिखा है,वाह वाह.....................
    जो सजा मिली,कोई खता न की,समझ न आता सबब नजर।
    क्या खूब लिखा है,वाह वाह.....................

    ReplyDelete
  5. रस्तुति अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट पर आप आमंत्रित हैं । नव वर्ष -2012 के लिए हार्दिक शुभकामनाएं । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  6. गहरी अभिव्‍यक्ति।
    सुंदर प्रस्‍तुतिकरण।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर रचना,.....बेहतरीन पोस्ट
    नए साल की बहुत२ शुभकामनाये बधाई,...

    नई पोस्ट --"काव्यान्जलि"--"नये साल की खुशी मनाएं"--click करे...

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । . नव वर्ष -2012 के लिए हार्दिक शुभ कामनाएँ ।

    ReplyDelete
  9. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......
    आपको और आपके परिवार को नव वर्ष की शुभकामनाएं...........

    ReplyDelete
  10. बहुत खूब, बधाई.
    नूतन वर्ष की मंगल कामनाओं के साथ मेरे ब्लॉग "meri kavitayen " पर आप सस्नेह/ सादर आमंत्रित हैं.

    ReplyDelete
  11. आपका पोस्ट बहुत ही अच्छा लगा .। मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । नव वर्ष की अशेष शुभकामनाए ।

    ReplyDelete
  12. vah point ji bahut hi sundar rachana ....abhar.

    ReplyDelete
  13. अच्छा लिखा ....
    बहुत सारी शुभकामनायें......
    मेरा ब्लॉग ज्वाइन करने के लिए इस लिंक पर जायें.
    http://dilkikashmakash.blogspot.com/

    ReplyDelete
  14. बहुत बढिया प्रस्तुति,मन की भावनाओं की सुंदर अभिव्यक्ति ......
    WELCOME to--जिन्दगीं--

    ReplyDelete
  15. सुंदर प्रस्‍तुतिकरण
    बहुत सारी शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  16. यूँ तड़पते हुए
    तो कोई मजा
    नहीं आता |
    पर इस सजा का
    शबब कुछ समझ
    भी नहीं आता |
    vaah;;;;
    kya baat hai;
    only a brilliant mind can express such a high thought in such a few words;;

    ReplyDelete
  17. bahut hi behtareen rachna hai....bdhai...pahli baar blog par aana hua,achcha lga yhan aakar....

    ReplyDelete
  18. यूँ तड़पते हुए
    तो कोई मजा
    नहीं आता |

    पर इस सजा का
    शबब कुछ समझ
    भी नहीं आता |

    बहुत ही लाजवाब पोस्ट...उम्दा
    मैं आपको मेरे ब्लॉग पर सादर आमन्त्रित करता हूँ.....

    ReplyDelete
  19. Nice Blog , Plz Visit Me:- http://hindi4tech.blogspot.com ??? Follow If U Lke My BLog????

    ReplyDelete
  20. बहुत ही सुन्दर दिल को छू लेनेवाले भाव:-)
    बहुत ही बेहतरीन अभिव्यक्ति:-)

    ReplyDelete