Tuesday, December 27, 2011

जब मेरा प्यार, सिर्फ उम्मीदे देता है....

जो नाम लेती रहूँ -- तुम्हारा 
पता नहीं कब शाम हो जाये |
दूरियाँ  बढती ही जाये ...
पर प्यार कम ना हो पाये |

जो मांगू कुछ भगवान से 
तो मांगू सिर्फ प्यार तुम्हारा |
जो हर दिन के साथ 
नयी सुबह लाये ...
और हमारी उम्र के साथ ...
बढता ही चला जाये |

अब तो मेरी ...
ये सिर्फ चाहत है |
की तेरी हर ख़ुशी 
मेरी ख़ुशी हो ....
और तेरा हर गम 
सिर्फ मेरा गम  |

यूँ दूर रहना 
अब तो मुझसे 
सहा नहीं जाता |
जो तुम साथ होते हो , 
तब भी मुझे चैन नहीं आता |

ये अकेलापन ही मुझे ...
हर-पल बेचैन कर जाता है |
जब मेरा प्यार, सिर्फ उम्मीदे देता है ,
और अपना कहा पूरा नहीं कर पाता है |

12 comments:

  1. PYAR KI MOHK ABHIVYAKTI. MERE BLOG PAR AAPKA SVAGAT HAE .

    ReplyDelete
  2. dil ki gahraaiyon ko chhooti kavita.sundar prastuti.

    ReplyDelete
  3. उनसे मिलने की चाह अकेलेपन का एहसास कहाँ होने देती है ... सुन्दर प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  4. यूँ दूर रहना
    अब तो मुझसे
    सहा नहीं जाता |
    जो तुम साथ होते हो ,
    तब भी मुझे चैन नहीं आता |

    Vaah Point ji bahut gahari abhivyktiyon ko kafi sadhe andaj me darshaya hai .... abhar ke sath hi badhai.

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  6. सुंदर रचना।


    नए साल की शुभकामनाएं.....

    ReplyDelete
  7. प्यार को परिभाषित करने वाली रचना,
    सचमुच ही लाजवाब है।

    ReplyDelete
  8. बहुत-बहुत आभार आप सभी का

    ReplyDelete
  9. काफी सुन्दर शब्दों का प्रयोग किया है आपने अपनी कविताओ में सुन्दर अति सुन्दर

    ReplyDelete
  10. चाहत पूरी होगी!! :)
    दिल से लिखी गयी पंक्तियाँ!!

    ReplyDelete