Monday, December 19, 2011

इस हंसी रात में जो कुछ माँगू.......

इस हंसी रात में जो कुछ माँगू,
तो माँगू सिर्फ तुम्हारा साथ |
और जो अगर कुछ देखना चाहू  ,
तो देखू  मुझसे जुदाई का गम 
आपकी भी आँखों में |

यु आपको रुलाकर  मेरा दिल 
कभी-भी शुकून नहीं पायेगा |

बस इतनी सी आरजू है मेरी ,
की चलो इस बहाने कम -से -कम 
आपकी आँखों से निकली  ,
आंसू की छोटी सी बूंद से ही  ,
आपकी जुदाई का सारा गम ...
भर जायेगा |


15 comments:

  1. आपका बहुत आभार ....

    ReplyDelete
  2. बेहद ख़ूबसूरत और उम्दा

    ReplyDelete
  3. धन्यवाद संजय भास्कर जी...

    ReplyDelete
  4. की चलो इस बहाने कम -से -कम
    आपकी आँखों से निकली ,
    आंसू की छोटी सी बूंद से ही ,
    आपकी जुदाई का सारा गम ...
    भर जायेगा |
    खूबसूरती से लिखी हुई सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  5. आपकी प्रवि्ष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी की जा रही है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल उद्देश्य से दी जा रही है!

    ReplyDelete
  6. गहरे अहसास।
    सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  7. बस इतनी सी आरजू है मेरी ,
    की चलो इस बहाने कम -से -कम
    आपकी आँखों से निकली ,
    आंसू की छोटी सी बूंद से ही ,
    आपकी जुदाई का सारा गम ...
    भर जायेगा |

    आंसुओं के साथ मन दर्द भी बह जाता है...... बेहद सुंदर

    ReplyDelete
  8. सुंदर भावपूर्ण अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  9. खुबशुरत भावपूर्ण सुंदर रचना लिखने की बहुत२ बधाई,...निरंतर इसी तरह लिखती रहे मेरी शुभकामनाए आपके साथ है,.बढ़िया पोस्ट....

    मेरी नई पोस्ट के लिए काव्यान्जलि मे click करे

    ReplyDelete
  10. आप सभी का बहुत-बहुत आभार ...

    ReplyDelete