Thursday, December 22, 2011

मुझे और भी ज्यादा --- प्यार करना सिखा जाते है ....

यूँ तो इसमें कुछ नया नहीं ..
वही एक लड़की ,लड़के की 
जिती जगती प्रेम कहानी है ,बस |

पर इस प्रेम कहानी में 
जिना जितना है मुश्किल |
उतना ही मुश्किल है ,
उसे दो लब्जो में कहना |

मैं क्या कहूँ
ये तो मेरी ही प्रेम कहानी है
जिसका हर लम्हा ...
है सबसे अनजाना |

ये मेरा अहसास ,
कब यादों में बदल जाता है |
अब तो मेरा दिन क्या रात क्या
उनका चेहरा ही सब कुछ
बन जाता है |

ये तड़प, ये फासले
मुझे उनसे
दुरी की याद दिला
जाते है |
पर क्या करू प्यार के
अलावा |
मुझे और भी ज्यादा ---
प्यार करना सिखा जाते है |

13 comments:

  1. हां ये मेरी ही प्रम कहानी है .... बहुत खूब

    ReplyDelete
  2. प्‍यार ऐसा ही होता है.....

    सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  3. खूबसूरत। काव्य कौशल की झलक प्रभावशाली है

    ReplyDelete
  4. सुन्दर रचना, मुग्ध करते भाव, सादर.

    पधारें मेरे ब्लॉग पर भी, आभारी होऊंगा.

    ReplyDelete
  5. प्रेम कहानी में ऐसा ही होता है,....खुबशुरत रचना,....

    मेरे पोस्ट के लिए "काव्यान्जलि" मे click करे

    ReplyDelete
  6. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    ReplyDelete
  7. वाह ...बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  8. बहुत बहुत आभार आप सभी का जी ....

    ReplyDelete