Thursday, June 21, 2012

प्यार का मीठा, एहसास ...

ताजा गिरे पतों ने होले से ..
तेरे आने की दस्तक दी है ,
बेहकते हुए अरमानो ने ..
चुपके से प्यार की मदिरा ,
भी मुझ पर छलका दी है |

ये हसीं वादियाँ ...
सिर्फ तेरे लोट आने से हसीं
हुई है ...
जो तुम नहीं थे ,
तो कुछ भी हसीं नहीं था | 

जाने कोई अजनबी क्यों ...??
खास हो जाता है ..
देखो ना, पास-ना होते हुए भी ,
प्यार का मीठा, एहसास दे जाता है |  

8 comments:

  1. बहुत प्यारे से एहसास से सराबोर पंक्तियाँ सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. सुन्दर अहसास लिए...
    कोमल भाव लिए.....
    सुन्दर , प्यारभरी रचना...
    :-)

    ReplyDelete
  3. आप सभी का बहुत आभार ...

    ReplyDelete
  4. देखो ना, पास-ना होते हुए भी ,
    प्यार का मीठा, एहसास दे जाता है |

    भावों की सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    पर भी पधारेँ।

    ReplyDelete
  6. सहर्ष धन्यवाद ...

    ReplyDelete