Wednesday, June 6, 2012

बस जिन्दा रह गये है .....


यह जीवन की राहें ..
जो हमें भूल जाएँ ,
तो अच्छा होता ...
ऐसे जहाँ से
दिल लगायें भी क्यों ??

हालत पे अपनी ...
तो शबनम भी रोये
पर कोई कहता है ,
हम भूल गये उनको

बरबादियों की अजब
कहानी सी बन गये है ,
वादे भूलते , कसम तोड़ते
बस जिन्दा रह गये है |

8 comments:

  1. बरबादियों की अजब
    कहानी सी बन गये है ,
    वादे भूलते , कसम तोड़ते

    सुंदर सार्थक भावपूर्ण अभिव्यक्ति ,,,,,

    MY RESENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: स्वागत गीत,,,,,

    ReplyDelete
  2. बहुत बढिया।

    ReplyDelete
  3. जैसा भी हो हर हाल में जीना तो पढता है ... साँसों का खेल खेलना पढता है ...

    ReplyDelete
  4. ज़िन्दगी है... तो अनंत संभावनाएं हैं!

    ReplyDelete
  5. आभार आप सभी का .....

    ReplyDelete