Saturday, June 23, 2012

मन की भी बोली लग गयी ....

शूल पर लगी आग , 
उसूलों ने छोड़ा साथ ...
मन की मत मारी गयी |

भटके मन ने ढूंढे ..
बचने के सौ रस्ते .. |
तोल - मोल के ...
नफे नुकसान में ,
मन की भी बोली लग गयी .... |

व्यापारियों के बीच फसा मन ,
अपना मोल मांग ना पाया ....

मन के चोरों से ठगा ,ये रोते ...
मन की मंडी में ,
अपनी भी बोली लगवाया |


13 comments:

  1. कुछ तो है इस कविता में, जो मन को छू गयी।
    नई पोस्ट .....मैं लिखता हूँ पर आपका स्वगत है

    ReplyDelete
  2. Beautiful as always.
    It is pleasure reading your poems.

    ReplyDelete
  3. मनोभाव का सुंदर सम्प्रेषण,,,,,

    RECENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: आश्वासन,,,,,

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस सार्थक पोस्ट के लिए बधाई स्वीकारें .

      Delete
  4. बहुत सुन्दर मनो भावों को शब्दों में पिरोती रचना

    ReplyDelete
  5. मन की मंदी में अपन बोली लगवाने की नौबत आना ... गहरे जज्बात लिए रचना ..

    ReplyDelete
  6. सटीक बात कहती सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. धन्यवाद आप सभी का .....आभार

    ReplyDelete
  8. भटके मन ने ढूंढे ..बचने के सौ रस्ते .. |तोल - मोल के ...नफे नुकसान में ,मन की भी बोली लग गयी .... |
    bahut hi sundar.......

    ReplyDelete
  9. मन की भी बोली लग गई.... सुंदर मनोभावों को व्यक्त करती रचना.

    ReplyDelete
  10. धन्यवाद आप सभी का

    ReplyDelete