Wednesday, June 27, 2012

होश में क्यों आये ??


बात थम  जाए ...
जब वो पल ,
मिले नसीब  में ..
होश में क्यों आये ??
जब वो रहे करीब में  |


खामोशियाँ धड़कन की ,
कहीं वो ना सुन ना ले ...
अब ये डर लगता है , 
क्योकिं धडकनों के इस साज में ,
अब बस उनका ही नाम बजता है |


आ ज़रा करीब  से ....
खुद को मुझमें समाजा 
जाने क्या होगा कल ,
कम - से - कम 
एक  दूजे के नहीं ... तो ...
एक दूजे के थे , तो कहलायेगे |


8 comments:

  1. बेहद खुबसूरत रचना

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी प्रस्तुति,,,सुंदर रचना,,,,,

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: बहुत बहुत आभार ,,

    ReplyDelete
  3. PYAR KA DARD LIYE BAHHOT SUNDER KAVYA RACHNA.

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी रचना !

    ReplyDelete
  5. धन्यवाद आप सभी का ....

    ReplyDelete
  6. आपका बहुत - बहुत आभार ...

    ReplyDelete
  7. 'made' for each other न सही 'mad' for each other कहलायेंगे |

    ReplyDelete