Saturday, June 30, 2012

प्यार का नाम लेना , अब अच्छा नहीं लगता ...


बहुत अच्छा.. होता ,
जो रात का इंतजार ना होता  ..
तो, जो जलन - धुप ने दी है ..
उसे ही जीवन  बना लेते   |


यूँ  तो ये तपिश ,
अपनी है, जो किसी 
पराये ने दे दी है ....
सिर्फ शब्दों का खेल है , ये ..
क्योंकि प्यार का नाम लेना , 
अब अच्छा नहीं लगता |


ना कोई मोल है, इन बातों का ...
जो किसी बढ चले क़दमों को ..
बंद ना पाये , 
फीके पकवान से ये शब्द ....
पर हमने तो ढूंड के पाए है |


आज जो किसी को रश ना आये, तो क्या ??
कभी तो ये, प्रतिदिन उनकी भोजन का अंग होता था |

14 comments:

  1. यूँ तो ये तपिश ,
    अपनी है, जो किसी
    पराये ने दे दी है ....
    सिर्फ शब्दों का खेल है , ये ..
    क्योंकि प्यार का नाम लेना ,
    अब अच्छा नहीं लगता |


    बहुत सुंदर, अच्छी रचना

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद आभार ...

    ReplyDelete
  3. छीके अब मुंह खोल के, कै मीठे-पकवान ।

    जगह-जगह खाता रहा, कम्बल ओढ़ उतान।

    कम्बल ओढ़ उतान, तपन की आदत डाले ।

    रहा बहुत मस्तान, आज मधुमेह सँभाले ।

    उच्च दाब पकवान, करे अब poit फ़ीके ।

    बदल गया इंसान, खोल में बैठा छींके ।।



    see your link on-
    dineshkidillagi.blogspot.in

    ReplyDelete
  4. वाह..
    यूँ तो ये तपिश ,
    अपनी है, जो किसी
    पराये ने दे दी है ....
    सिर्फ शब्दों का खेल है , ये ..
    क्योंकि प्यार का नाम लेना ,
    अब अच्छा नहीं लगता |

    बहुत सुन्दर!!!!

    अनु

    ReplyDelete
  5. बहुत उम्दा अभिव्यक्ति,,,सुंदर प्रस्तुत रचना,,,,
    पोस्ट पर आइये स्वागत है,

    MY RECENT POST....काव्यान्जलि...:चाय

    ReplyDelete
  6. आप सभी का बहुत बहुत आभार ...

    ReplyDelete
  7. वाह..
    बहुत सुन्दर....

    ReplyDelete
  8. pahli baar aapke blog par aai hu.panktiyan sach me acchi lagi

    ReplyDelete
  9. धन्यवाद बहुत - बहुत आभार .....

    ReplyDelete
  10. सुन्दर रचना..
    :-)

    ReplyDelete