Saturday, June 9, 2012

फिर मुलाकात होगी ...


आप यूँ फसलों से
गुजरा भी करो ,
हम आप से कुछ दूर है ,
ये एहसास तो होता है |

और हम इस उम्मीद में
साँस लिए जाते है ,
की किसी राह में ,
किसी मोड़ पर ...
फिर मुलाकात होगी |

ऐ हवा तू ये जान ले
जो लोग मोहब्बत ...
किया करते है ...
वो दिल और निगाहों
से सिर्फ चाहते हो उनको ,

और गमों में भी उनकी ...
हर खुशियों की दुआ करते है |


12 comments:

  1. आप यूँ फसलों से
    गुजरा भी करो ,
    हम आप से कुछ दूर है ,
    ये एहसास तो होता है |

    दिल को छुते भाव

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन अभिव्यक्ति सुंदर रचना,,,,, ,

    MY RECENT POST,,,,काव्यान्जलि ...: ब्याह रचाने के लिये,,,,,

    ReplyDelete
  4. क्या बात है!!
    आपके इस सुन्दर प्रविष्टि का लिंक दिनांक 11-06-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगा। सादर सूचनार्थ

    ReplyDelete
  5. और गमों में भी उनकी ...
    हर खुशियों की दुआ करते है |
    सुंदर भाव ...
    शुभकामनायें

    ReplyDelete
  6. सुंदर प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  7. मुहब्बत में ऐसा ही होता है .. दिल से दुआ निकलती है .. बहुत खूब ..

    ReplyDelete
  8. और गमों में भी उनकी ...
    हर खुशियों की दुआ करते है

    सुंदर प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  9. आप सभी का आभार ...आप सभी का आभार ... धन्यवाद

    ReplyDelete
  10. सुन्दर............

    बहुत सुन्दर...................

    अनु

    ReplyDelete